GDP, GNP, PPP का आसान भाषा में जानकारी

इस आर्टिकल को पढने के बाद आप यह समझ जायेंगे कि GDP, GNP, NDP, NNP तथा PPP क्या है और आपको कोई और आर्टिकल पढने कि जरुरत नही होगी।

प्रत्येक वर्ष देश कि राजनितिक सीमा के अन्दर स्वदेशी तथा विदेशी कंपनियो द्वारा उत्पादित अंतिम माल तथा सेवाओ का कुल मूल्य ही GDP कहलाता है।

GDP का फुल फॉर्म

GDP का फुल फॉर्म “Gross Domestic Product” होता है। हिंदी में इसे “सकल घरेलू उत्पाद” कहते हैं। मतलब भारत के राजनीतिक सीमा में होने वाले सभी प्रकार के सामान का कुल उत्पादन।

GDP निकालने के घटक

GDP निकालने के मुख्य रूप से 3 घटक होते है।  

  • सामान की बिक्री के मूल्य के आधार पर
  • रास्ट्रीय आय के आधार पर
  • व्यय द्रष्टिकोण के आधार पर

1. सामान की बिक्री के मूल्य के आधार पर

GDP = बेचे गये सामान का कुल मूल्य – आयात किये गये कच्चे माल का कुल मूल्य  

2. व्यय द्रष्टिकोण के आधार पर

सभी अंतिम वस्तुओं तथा सेवाओ पर किये गये कुल व्यय के आधार पर भी GDP निकाली जाती है।

GDP = C+I+G+(X-M)

  • C = वस्तुयें तथा सेवाये
  • I = सकल निवेश
  • G = सरकारी खरीद  
  • X = कुल निर्यात
  • M = कुल आयात

3. राष्ट्रीय आय के आधार पर

देश में सभी लोगों कि आय को जोड़कर भी GDP निकाली जाती है। 

GDP = कर्मचारी कि आय + कंपनी का मुनाफा + मालिक कि आय + किराये से आय + ब्याज

GNP क्या होता है

GNP का फुल फॉर्म “Gross National Product” होता है। हिंदी में इसे “सकल राष्ट्रीय उत्पाद” कहते हैं।

GDP में भारतीय तथा विदेशी कंपनियों के द्वारा उत्पादित सामान के कुल मूल्य को जोड़ा जाता है लेकिन GNP में सिर्फ भारतीय कंपनियों के द्वारा उत्पादित तथा विदेशों में भारतीय लोगों के द्वारा कमाए हुए मुनाफे को ही जोड़ा जाता है।

भारतीय कंपनी भारत या दुनिया के किसी भी देश में सामान का उत्पादन करें उनके मुनाफे को भारतीय GNP में जोड़ा जायेगा।

नोट : भारतीय कंपनी JIO अगर पैसा कमाती है तो इसे भारत कि GDP तथा GNP दोनों में जोड़ा जाएगा लेकिन Vodafone अगर भारत में पैसा कमाती है तो इसे सिर्फ GDP में जोड़ा जाएगा GNP में नहीं क्योंकि यह विदेशी कंपनी है।

GDP तथा GNP निकालने का उदाहरण

भारत में हजारों कंपनियां अपना प्रोडक्ट बनाती हैं अगर हम सभी के प्रोडक्ट कि कुल आय को जोड़ेंगे तो हमें भारत कि GDP प्राप्त होगी। लेकिन उदाहरण के तौर पर हम मान लेते हैं कि भारत में अभी सिर्फ 2 ही कंपनी है।

Q1. एक भारतीय कंपनी “Tata” तथा एक विदेशी कंपनी Samsung है। माना कि Tata कंपनी ₹100 का सामान बनाती है तथा Samsung ने ₹50 का सामान बनाया और भारत के रमेश नाम के व्यक्ति ने अमेरिका में जॉब करके 10 रुपए कमाए तो हमारे देश कि GDP तथा GNP कितनी होगी।

gdp and gnp example
gdp and gnp example

GDP तथा GNP में कौन ज्यादा बेहतर है

अब आप समझ गए होंगे कि GDP तथा GNP में क्या अंतर है इन दोनों के अलग-अलग फायदे हैं।

GDP ज्यादा होने पर सरकार को टैक्स ज्यादा मिलता है और GNP ज्यादा होगा तो मतलब भारत के लोग देश तथा विदेश में ज्यादा पैसा कमा रहे हैं तथा विदेशी लोग भारत में कम पैसा कमा रहे हैं।

लेकिन विशेषज्ञों की मानें तो GDP तथा GNP दोनों साथ चले तो देश के लिए ज्यादा बेहतर है।

नोट : सिर्फ दो कंडीशन में GDP तथा GNP बराबर हो सकते हैं।

1. Closed इकोनामी : ऐसी अर्थव्यवस्था जिसमें ना आयात हो तथा ना ही निर्यात हो अर्थात जिसमे X तथा Y समान हो तो GDP तथा GNP बराबर होंगे।

  •  GNP = GDP + (X-Y)
  • यदि X तथा Y = 0 हो तो
  •  GNP = GDP

2. अगर देश में आयात तथा निर्यात बराबर मात्रा में हो तो भी GDP तथा GNP बराबर होंगे।

  • GNP = GDP + (X-Y)
  • यदि X = Y हो तो  
  •  GNP = GDP

GDP की गणना

GDP की गणना मुख्य रूप से तीन प्रकार से की जाती है।

  1. फैक्टर Cost के आधार पर
  2. Nominal GDP तथा Real GDP
  3. PPP मॉडल के आधार पर

1. Factor Cost के आधार पर

भारत में उत्पादित प्रत्येक वस्तु के वास्तविक मूल्य को जोड़ दें तो हम GDP ज्ञात कर सकते हैं लेकिन हम मार्केट में जो भी वस्तु खरीदते हैं वह वस्तु के उत्पादित मूल्य पर नही मिलती है उसमें टैक्स जुड़ने के कारण उसका प्राइस बढ़ जाता है अथवा सब्सिडी के कारण उसका प्राइस घट जाता है।

तो सही GDP निकालने के लिए हम वस्तु के कुल मूल्य में से टैक्स को घटा देते हैं तथा सब्सिडी को जोड़ देते हैं।

GDP = उत्पादित सभी वस्तुओं का मार्केट प्राइस – टैक्स + सब्सिडी   

2. Nominal GDP तथा Real GDP

यह सिर्फ नाम मात्र की GDP है यह वस्तु के वर्तमान मूल्य पर निकलता है अगर महंगाई बढ़ जाएगी तो नॉमिनल GDP बढ़ जाएगी तथा महंगाई घाट जाएगी तो नॉमिनल GDP घट जाएगी।

nominal gdp example

नोट : नॉमिनल GDP में सबसे बड़ी समस्या यह है कि उत्पादित वस्तुओं की संख्या घटने के बाद भी GDP बढ़ रही है। लेकिन ऐसा नहीं हो सकता चलिए अब जानते है कि Real GDP कैसे कैलकुलेट करते है।

Real GDP

real gdp example GDP GNP NDP NNP PPP

Real GDP में हम प्रत्येक वस्तु के किसी निश्चित वर्ष के प्राइस को base प्राइज मान लेते हैं जैसे माना 2010 का बेस प्राइस ₹5 है।

रियल GDP में हम प्रत्येक वर्ष उत्पादन कि कुल संख्या को उसके आधार वर्ष (2010) के प्राइस (₹5) से गुणा करते हैं तब हमें रियल GDP प्राप्त होती है।

और हम देखते हैं कि है यह हर बार घट रही है क्योंकि वस्तुओं का उत्पादन भी घट रहा है। भारत की रियल GDP 2.60 ट्रिलियन है तथा भारत का आधार वर्ष 2011-12 है।

GDP गणना आधार वर्ष में बदलाव 

भारत में अभी GDP गणना के लिए 2011-12 को आधार वर्ष माना जाता है। लेकिन कुछ सालों बाद नई कंपनियां भी मार्केट में आ जाती हैं और कुछ नया प्रोडक्ट लांच कर देती हैं।

वह प्रोडक्ट आधार वर्ष यानी 2011-12 में मौजूद नहीं था तो हमें उसका base प्राइस नहीं पता इसलिए सरकार 2011-12 आधार वर्ष को बढ़ाकर 2017-18 करने पर विचार कर रही है ताकि हमें नए प्रोडक्ट का base प्राइस मिल सके।

3. PPP के आधार पर GDP की गणना

PPP का फुल फॉर्म “Purchasing Power Parity” होता है। हिंदी में इसे “क्रय शक्ति समानता” कहते है।

आसान भाषा में कहें तो PPP के द्वारा यह पता चलता है कि भारत में जो सामान 100 रुपए में आता है वही सामान दुसरे देशों में कितने रुपए में आएगा।

PPP उस देश का अधिक होता है जिस देश में लोग कम पैसे में अधिक सुविधाओं का लाभ ले पाते हैं।

उदाहरण

भारत के किसी गांव में ₹10,000 प्रति महीने कमाने वाला व्यक्ति सिर्फ ₹2000 का बढ़िया सा मकान किराए पर लेकर रह सकता है क्योंकि वहां मकान सस्ता मिल जाता है।

जबकि मुंबई शहर में ₹10,000 कमाने वाले व्यक्ति को ठीक उसी प्रकार का मकान ₹8,000 में किराए पर मिलता है तो यहां व्यक्ति को उतनी ही सुविधाओं के लिए अधिक पैसा कमाना पड़ेगा।

तथा अमेरिका के न्यूयार्क शहर में रहने वाले व्यक्ति को ठीक ऐसा ही मकान 20,000 रुपए प्रति महीने पर किराए पर मिलेगा इसलिए वहां रहने के लिए और ज्यादा पैसा कमाना पड़ेगा।

भारत कि कुल PPP 10.5 ट्रिलियन है जबकि भारत कि GDP 2.6 ट्रिलियन है।

PPP (2020) के मामले में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर आता है।

RankCountry/TerritoryGDP (PPP)
1 China$27.80 ट्रिलियन
2 United States$20.28 ट्रिलियन
3 India$11.32 ट्रिलियन
4 Japan$5.45 ट्रिलियन
5 Russia$4.17 ट्रिलियन
6 Germany$4.16 ट्रिलियन
7 Indonesia$3.77 ट्रिलियन
8 Brazil$3.31 ट्रिलियन
9 United Kingdom$2.97 ट्रिलियन
10 France$2.86 ट्रिलियन

भारत की कुल GDP

मैंने उदाहरण में सिर्फ Tata तथा Samsung कंपनीयों को लिया था। इन दोनों कंपनियों के कारण GDP 150 रुपए थी लेकिन अगर हम भारत में उत्पादित होने वाली प्रत्येक वस्तु जैसे पेन, पेपर, कपड़ा, कैमरा, फोन, कंप्यूटर आदि के मूल्य को जोड़ दें तो भारत की कुल GDP 2.60 ट्रिलियन डॉलर होती है।

विश्व के सर्वाधिक GDP (2020) वाले 10 देश

RankCountry/TerritoryGDP
1 United States$21.43 ट्रिलियन
2 China$14.14 ट्रिलियन
3 Japan$5.15 ट्रिलियन
4 Germany$3.86 ट्रिलियन
5 India$2.93 ट्रिलियन
6 United Kingdom$2.74 ट्रिलियन
7 France$2.70 ट्रिलियन
8 Italy$1.98 ट्रिलियन
9 Brazil$1.84 ट्रिलियन
10 Canada$1.73 ट्रिलियन

GDP को कैसे बढ़ाया जाए

GDP बढ़ाने के लिए भारत में वस्तुओं का उत्पादन बढ़ाना होगा। चाहे यह उत्पादन विदेशी कंपनियों के द्वारा हो या स्वदेशी कंपनी के द्वारा जरूरी यह है कि उत्पादन भारत की सीमा रेखा के अंदर हो।

इसी कारण भारत सरकार देश में छोटे-छोटे उद्योगों को बढ़ावा दे रही है यह काम सरकार MSME (Micro Small Medium Enterprises) के द्वारा कर रही है।

NDP तथा NNP क्या होता है

NDP का फुल फॉर्म “Net Domestic Product” होता है हिंदी में इसे “शुद्ध घरेलू उत्पाद” कहते हैं।

NNP का फुल फॉर्म “Net National Product“ होता है हिंदी में इसे “शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद” कहते है।

भारत में बना सभी प्रकार के सामान का मूल्य GDP में जोड़ा जाता है लेकिन उसमें से टूट-फूट वाले सामान को GDP में से घटा दें तो NDP निकलता है उसी प्रकार GNP में से टूट-फूट वाला समान हटा दे तो NNP निकलता है।

माना भारत में 10 बल्ब बनते हैं लेकिन उनमे से 2 बनने के कुछ समय बाद टूट गए जीडीपी में तो 10 बल्ब ही जोड़े जाएंगे लेकिन NDP में सिर्फ 8 बल्ब ही जोड़े जाएंगे।

निष्कर्ष

इस गाइड में आपने बहुत ही आसान भाषा में GDP, GNP, NDP, NNP तथा PPP के बारे में जाना।  

किसी भी देश के विकास के लिए GDP का अधिक होना बहुत जरुरी होता है GDP तभी अधिक होगी जब देश में अधिक से अधिक चीजों का उत्पादन होगा।

पढाई करने का SQ3R फार्मूला क्या है

Revision कैसे करे Revision करने का वैज्ञानिक तरीका

स्टूडेंट को कितने घंटे सोना चाहिए?

बुक के लम्बे आंसर को चुटकी में कैसे याद करें

पढाई करने का सही समय क्या है सुबह, दिन या रात

स्टडी टेबल को कैसे सजाये ताकि आपका पढाई में मन लगे

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow Us

Follow us on Facebook
error: Content is protected !!