ब्लॉगिंग क्या है Basic to Advanced जानकारी

अगर आप जानना चाहते है कि ब्लॉगिंग क्या है, ब्लॉगिंग कैसे करे, ब्लॉगिंग से पैसे कैसे कमाए तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े। मैं पिछले 5 वर्षो से ब्लॉगिंग कर रहा हूँ और मैंने ब्लॉगिंग के द्वारा बहुत सारा पैसा भी कमाया है जिसका मैं आपको प्रूफ भी दूंगा। इन 5 वर्षो के दौरान मुझे ब्लॉगिंग करने में किन-किन प्रॉब्लम का सामना करना पड़ा और मैंने उन सभी प्रॉब्लम को कैसे दूर किया यह जानकरी मैं अपने ब्लॉग Hindivisitor.com पर शेयर की है। अगर आपको ब्लॉगिंग सीखनी है और मेरी तरह घर बैठे-बैठे लाखों रुपये कमाने है तो आपको ब्लॉगिंग से संबंधित सारे आर्टिकल Hindivisitor.com/blogging पर मिल जायेंगे।

अपने ब्लॉग पर आर्टिकल पोस्ट करना, ब्लॉग को maintain करना, ब्लॉग पर आये कमेंट का रिप्लाई करना, ब्लॉग की सिक्योरिटी का ध्यान रखना ब्लॉगिंग कहलाता है

ब्लॉगिंग के अलावा आप फेसबुक (फेसबुक से पैसे कैसे कमाए) और यूट्यूब (यूट्यूब से पैसे कैसे कमाए) से भी ऑनलाइन पैसे कमा सकते है। चलिए अब जानते है कि ब्लॉग क्या होता है?

ब्लॉग क्या है

blog kya hai

सचिन तेंदुलकर ने अपने जीवन पर एक किताब (ऑटोबायोग्राफी) लिखी है जिसका नाम है “प्लेइंग इट माय वे”। उस किताब में उन्होंने जो भी जानकारी लिखी है अगर वही जानकरी वे एक ब्लॉग बनाकर लिख देते तो उस जानकरी को दुनिया में कही पर भी बैठा व्यक्ति इन्टरनेट के द्वारा पढ़ सकता था लेकिन अब पढ़ने के लिए व्यक्ति को वह किताब खरीदनी होगी और उसके पैसे देने होंगे।

और सबसे बड़ी समस्या यह है कि सचिन को उस किताब की लाखों कॉपी प्रिंट करवानी होगी और प्रत्येक शहर में पहुंचानी होंगी जिसमे बहुत खर्चा और टाइम लगेगा।

लेकिन ब्लॉग लिखने में ना के बराबर पैसा लगता है और प्रत्येक व्यक्ति उसे फ्री में पढ़ सकता है। जिस प्रकार आप यह ब्लॉग फ्री में आने घर बैठे पढ़ रहे है और उस ब्लॉग पर दिखाए जाने वाले ads के द्वारा पैसा भी कमाया जा सकता है।  

कोई भी व्यक्ति जिसको किसी विषय के बारे में अच्छा ज्ञान है तो वह ब्लॉग लिख सकता है बहुत सारे व्यक्ति मिलकर भी एक ब्लॉग बना सकते है।

बहुत से लोगों के पास कंप्यूटर नहीं होता है लेकिन मोबाइल होता है मोबाइल से ब्लॉगिंग कैसे करें इसके बारे में मैंने डिटेल में एक आर्टिकल लिखा है।

ब्लॉग क्यों लिखते हैं

ब्लॉग लिखने के बहुत कारण हो सकते हैं लेकिन मेरे अनुसार इसके मुख्य तीन कारण है।

  • अपना ज्ञान लोगों के साथ शेयर करने के लिए।
  • प्रसिद्धि हासिल करने के लिए।
  • पैसा कमाने के लिए।

जरूरी नहीं है कि सभी लोग पैसे के लिए ब्लॉग लिखते है कुछ लोग अपने इंटरेस्ट के कारण भी ऐसा करते हैं। ब्लॉग के द्वारा लोगों तक सही सूचना पहुंचा कर आप उनका फायदा करवा सकते हैं। आगे मैं आपको यह भी बताऊंगा कि ब्लॉग कैसे लिखते हैं।

ब्लॉग का बेसिक Structure (स्ट्रक्चर)

मुख्यतः सभी प्रकार के ब्लॉग में चार चीजें होती है।

  • Header : हैडर में ब्लॉग के सभी menu की लिस्ट होती है।
  • Footer : footer में दूसरे इंपोर्टेंट पेज के लिंक होते हैं।
  • Sidebar : साइड बार में दूसरे पुराने पोस्ट के लिंक होते हैं।
  • Bodypart : बॉडी पार्ट में ब्लॉग का मुख्य कंटेंट होता है।
blog basic structure

ब्लॉगिंग कितने प्रकार की होती है

किसी भी ब्लॉग को चलाने के लिए आपको बहुत सारी बातें सीखनी पड़ती हैं। जैसे पोस्ट लिखना, पोस्ट को पब्लिश करना, अपने ब्लॉग के लिए जरूरी plugin इंस्टॉल करना, उसकी सिक्योरिटी का ध्यान रखना, कमेंट का रिप्लाई करना तथा ब्लॉग को लोगों के साथ फेसबुक, यूट्यूब तथा अन्य प्लेटफार्म पर शेयर करना आदि इन सब बातों को मिलाकर ब्लॉगिंग कहा जाता है। लेकिन यह करना इतना आसान होता है कि आप एक बार में ही इसे सीख सकते है।

अलग-अलग मौकों पर कस्टमर/लोगों के साथ जुड़ने के लिए अलग-अलग प्रकार की ब्लॉगिंग का इस्तेमाल किया जाता है। किसी भी बड़ी कंपनी का अपने कस्टमर के साथ जुड़े रहना तथा उन्हें नए-नए प्रोडक्ट की जानकारी देने के लिए ब्लॉगिंग बहुत जरूरी है।

ब्लॉगिंग के निम्नलिखित प्रकार होते हैं।

types of blogging ब्लॉगिंग क्या है

1. Event ब्लॉगिंग

कोई भी ब्लॉग जो एक निश्चित टाइम पीरियड के लिए बनाया जाता है event ब्लॉगिंग कहलाता है। जैसे होली, दिवाली से संबंधित जानकारी के लिए जो ब्लॉग बनाये जाते है event ब्लॉगिंग के अंतर्गत आते हैं उसमें केवल होली या दिवाली के बारे में ही लिखा जाता है या कोई सामान बेचा जाता है।

क्रिसमस के लिए भी लोग काफी event blogging करते हैं जिस पर वे क्रिसमस की फोटो, क्रिसमस ग्रीटिंग, क्रिसमस कोट्स लोगों के साथ शेयर करते हैं।

ऐसे ब्लॉग पर ट्रैफिक 5 से 10 दिन के लिए जाता है साल भर के लिए नहीं आता इसलिए इसे इवेंट ब्लॉगिंग कहा जाता है।

2. Personal ब्लॉगिंग

कोई व्यक्ति जो अपने विचार या अपने जीवन से जुड़ी जानकारी लोगों के साथ शेयर करता है उसे पर्सनल ब्लॉगिंग कहते हैं।

पर्सनल blog व्यक्ति का खुद का ब्लॉग होता है वह जिस विषय के बारे में लिखना चाहे लिख सकता है जैसे बड़े पत्रकार अपने पर्सनल blog पर राजनीति से संबंधित मुद्दों पर अपने अनुभव साझा करते है। अमिताभ बच्चन भी अपने जीवन के अनुभव ब्लॉग के द्वारा साझा करते है।

3. Niche ब्लॉगिंग

Niche का मतलब होता है कोई भी एक विषय या टॉपिक जैसे क्रिकेट, फुटबॉल, साइंस आदि ये तीनो अलग-अलग niche है।

Niche ब्लॉगिंग के जरिए किसी एक ही विषय के बारे में बात की जाती है जैसे अगर किसी व्यक्ति को साइंस का अच्छा ज्ञान है और वह सिर्फ साइंस से जुड़ी बातें ही लोगों के साथ शेयर करें तो इसे niche ब्लोग्गिं कहते हैं।

अगर किसी व्यक्ति को क्रिकेट का बहुत अच्छा ज्ञान है तो वह क्रिकेट से संबंधित जानकरी जैसे सबसे बढ़िया बेट कौनसा है, बोल्लिंग कैसे करते है, स्विंग कैसे करते है तथा दुनिया के महान खिलाडियों के रिकॉर्ड के बारे में जानकारी अपने ब्लॉग पर लिख सकता है।

4. Micro Niche ब्लॉगिंग

माइक्रो niche ब्लॉगिंग, niche ब्लॉगिंग का ही एक छोटा हिस्सा होता है। किसी भी विषय में बहुत सार टॉपिक होते हैं लेकिन केवल किसी एक ही टॉपिक पर ब्लॉग लिखना माइक्रो niche ब्लॉगिंग कहलाता है ।

जैसे साइंस एक बहुत बड़ा विषय है तथा उसमे गुरुत्वाकर्षण एक छोटा टॉपिक है केवल गुरुत्वाकर्षण के बारे में लिखना माइक्रो niche ब्लॉगिंग कहलाता है। जैसे गुरुत्वाकर्षण क्या होता है?, पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण कितना है?, चाँद का गुरुत्वाकर्षण बल कितना है?, गुरुत्वाकर्षण बल किन-किन बातों पर निर्भर करता है आदि।

5. Affiliate ब्लॉगिंग

जब आपको नया मोबाइल खरीदना होता है तो आप गूगल पर जाकर सर्च करते है बेस्ट मोबाइल अंडर 10,000 और आपके सामने बहुत सारी वेबसाइट आ जाती है जो अलग-अलग मोबाइल को कम्पेयर करके बताती है कि 10,000 रुपए में कौनसा मोबाइल बढ़िया है और उसके साथ उस मोबाइल को खरीदने के लिए अमेज़न या फ्लिप्कार्ट का लिंक नीचे दिया गया होता है इसे ही एफिलिएट ब्लॉगिंग कहते है।

Affiliate ब्लॉगिंग में किसी भी प्रोडक्ट के बारे में ही अपने रिव्यू दिए जाते हैं तथा उस प्रोडक्ट का affiliate link शेयर किया जाता है जब भी कोई व्यक्ति उस लिंक पर क्लिक करके उस प्रोडक्ट को खरीदता है तो आपको कुछ कमीशन मिलता है।

Affiliate ब्लॉगिंग क्या है और यह कैसे काम करती है इसके बारे में मैंने विस्तार से एक आर्टिकल लिखा है अधिक जानकरी के लिए आप उसे पढ़ सकते है।

ब्लॉगिंग कैसे शुरू करें

ब्लॉगिंग करना शुरुआत में थोड़ा मुश्किल लगता है जैसे मुझे लगता था लेकिन यह उतना मुश्किल भी नहीं है। ब्लॉगिंग कैसे शुरू करें मैं आपको इसकी पूरी जानकारी दूंगा आपको बस step by step फॉलो करना है।

ब्लॉगिंग फ्री में भी की जाती है और हर महीने कुछ पैसे देकर भी की जाती है हर महीने पैसे देकर की जाने वाली ब्लॉगिंग WordPress पर की जाती है।

फ्री में ब्लॉगिंग आप blogger.com से शुरू कर सकते हैं लेकिन अगर आप अपने ब्लॉग को लंबे समय तक चलाना चाहते हैं तो आपको paid blogging ही करनी चाहिए।

पढ़े : 10 मिनट में फ्री ब्लॉग कैसे बनाये

क्योंकि blogger.com पर आपको अपने ब्लॉग को कस्टमाइज (आपके हिसाब से चीजो को बदलना) करने के लिए बहुत सारे ऑप्शन नहीं मिलते हैं। आपको coding करके सब कुछ चेंज करना पड़ता है जबकि WordPress ब्लॉगिंग करने पर आपको बहुत सारे ऑप्शन मिलते हैं।

WordPress blogging में आपको हर महीने 200 से ₹500 देने पड़ते हैं लेकिन इससे कहीं ज्यादा आप कमा सकते हैं।

WordPress blog कैसे शुरू करें

1. होस्टिंग खरीदें

किसी भी ब्लॉग को शुरु करने के लिए सबसे जरूरी होती है। होस्टिंग

आपके ब्लॉग का सारा डाटा होस्टिंग सर्वर पर सेव होता है। इससे यह फायदा होता है कि कोई भी व्यक्ति इंटरनेट के माध्यम ब्लॉग को डोमेन नाम के द्वारा पूरी दुनिया में कहीं भी देख सकता है। मार्केट में बहुत सारी होस्टिंग कंपनी है लेकिन मैं खुद पिछले 3 सालों से जो होस्टिंग यूज कर रहा हूं और वह है A2hosting

hosting company

A2hosting की कुछ खास बातें

  • यह दूसरी hosting की बजाय सस्ती है।
  • अगर आपके ब्लॉग पर कोई प्रॉब्लम आए तो आप कस्टमर केयर के साथ 24*7 चैट कर सकते हैं।
  • अगर आपको होस्टिंग पसंद ना आए तो आपको पूरा पैसा वापस मिल जाएगा
  • इस hosting की स्पीड भी अच्छी है।
  • अगर आप भी यह hosting खरीदना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें।

अधिक जानकारी के लिए पढ़े : होस्टिंग क्या होती है और होस्टिंग के कितने प्रकार होते है

2. अपना होस्टिंग प्लान चुनें

होस्टिंग में बहुत सारे प्लान होते हैं आपको सबसे सस्ते प्लान से शुरू करना चाहिए।

hosting plan ब्लॉगिंग क्या है

3. अपना Domain name रजिस्टर करें

हर ब्लॉग का एक domain name होता है जैसे अभी जो ब्लॉग आप पढ़ रहे हैं उसका नाम है Hindivisitor.com उसी प्रकार आपको भी अपने ब्लॉग का नाम सोचना होगा। आप जिस टॉपिक पर अपना ब्लॉग बनाना चाहते है उसी से मिलता हुआ नाम वाला डोमेन ख़रीदे

domain registration

4. WordPress Install करें

अपना blog लिखना शुरु करें

यहाँ मैंने आपको ब्लॉगिंग शुरू करने से संबंधित थोड़ी सी जानकारी दी है ब्लॉगिंग शुरू करने के 12 स्टेप्स के बारे में अधिक जानने के लिए आपको दूसरा आर्टिकल पढ़ना होगा

blogger क्या होता है

ब्लॉग लिखने वाले को ब्लॉगर कहते हैं। कोई भी व्यक्ति जो blog लिखता है तथा उसको हैंडल करता है blogger कहलाता है।

blog तथा वेबसाइट में अंतर

बहुत सारे लोग ऐसे हैं जिनको ब्लॉग तथा वेबसाइट में अंतर नहीं पता आज मैं आपको बताता हूं कि ब्लॉग और वेबसाइट में क्या अंतर है।

ब्लॉगवेबसाइट
एक ब्लॉग निरंतर अपडेट होता है जैसे hindivisitor.comएक वेबसाइट बहुत कम अपडेट होती है जैसे कोई भी सरकारी वेबसाइट।
ब्लॉग पर लिखे आर्टिकल पर कोई भी कमेंट कर सकता है।वेबसाइट पर कोई कमेंट नहीं कर सकता।
ब्लॉग पोस्ट पर लेखक का नाम, पोस्ट की केटेगरी, पोस्ट पब्लिश डेट, आदि लिखे होते हैं।वेबसाइट पर यह सब नहीं होता।
ब्लॉग पर आपको निरंतर कुछ ना कुछ नई जानकारी मिलती है।वेबसाइट पर निरंतर जानकारी नहीं मिलती।
blog vs website ब्लॉगिंग क्या है

ब्लॉगिंग से पैसे कैसे कमाते हैं

जैसा कि मैं आपको बता चुका हूं कि ब्लॉगिंग क्या है और ब्लॉगिंग कितने प्रकार की होती है उसी प्रकार ब्लॉगिंग से पैसे भी बहुत प्रकार के कमाया जा सकता है

ब्लॉगिंग से पैसे कमाने के कुछ तरीके मैं आपके साथ शेयर कर रहा हूं।

1. Google AdSense

  • अपने ब्लॉग को गूगल ऐडसेंस के द्वारा Monetize करके पैसे कमा सकते हैं
  • ऐडसेंस आपके ब्लॉग पर विज्ञापन दिखाता है आपके ब्लॉग पर जितना ज्यादा ट्रैफिक आएगा उतना ही पैसे अधिक कमा सकते हैं।
  • जब लोग उस विज्ञापन को देखते हैं तो आपको पैसे मिलते है।

2. Affiliate मार्केटिंग

  • किसी भी प्रोडक्ट का रिव्यू लिखकर आप affiliate मार्केटिंग के जरिए पैसे कमा सकते हैं।
  • Affiliate मार्केटिंग में आप ऐडसेंस ज्यादा पैसा कमा सकते हैं बशर्ते आपका ब्लॉग गूगल में top पर रैंक करना चाहिए।

3. अपनी किताब ऑनलाइन बेचकर

  • अगर आपने कोई पुस्तक लिखी है तो आप उसकी e-book बनाकर अपने ब्लॉग के जरिए ऑनलाइन बेच सकते हैं और उससे अच्छा पैसे कमा सकते हैं।
  • आपकी बुक में कुछ Unique होना चाहिए e-book का मतलब होता है अपनी किताब की PDF फाइल बनाकर बेचना।
  • e-book किताब की तुलना में सस्ती होती है।

4. अपना प्रोडक्ट बेच कर

  • अगर आपका खुद का कोई प्रोडक्ट है और आप उसके खुद निर्माता है तो आप उसे भी अपने ब्लॉग के द्वारा ऑनलाइन बेच सकते हैं।

ब्लॉग कैसे लिखते हैं

ब्लॉग आपको उसी विषय के बारे में लिखना चाहिए जिसका आपको ज्ञान है या जिस विषय में आपकी रुचि है क्योंकि तभी आप लोगों को कन्वेंस कर पाएंगे कि आप सही बोल रहे हैं।

अगर आपका ब्लॉग अच्छा नहीं होगा तो लोग उसको नहीं पढ़ेंगे इसलिए ब्लॉग लिखते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • हमेशा उसी टॉपिक पर ब्लॉग लिखे जिसके बारे में आपको अच्छा ज्ञान है
  • अपने ब्लॉग के द्वारा लोगों की कोई समस्या दूर करने की कोशिश करें।
  • ब्लॉगिंग में सबसे जरुरी कीवर्ड रिसर्च होती है। आपको फ्री कीवर्ड रिसर्च करने के 8 तरीके के बारे में पता होना चाहिए।
  • जिस keyword पर आर्टिकल लिख रहे हैं केवल उसी के बारे में जानकारी दें व्यर्थ की जानकरी ना दें।
  • आपको आर्टिकल का SEO भी करना आना चाहिए। क्या आपको 25 एडवांस SEO टिप्स के बारे में पता है।
  • घुमा-फिरा कर बात ना करें सटीक जानकारी दें।
  • आपके ब्लॉग पर एक आर्टिकल कम से कम 800 से 1000 वर्ड का होना चाहिए इससे ज्यादा 5000 से 7000 वर्ड का भी हो सकता है।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है कि आज आपने कुछ नया सीखा होगा ब्लॉगिंग क्या है, ब्लॉग क्या है, ब्लॉग कैसे लिखते है, ब्लॉग तथा वेबसाइट में क्या अंतर है तथा इससे जुडी तमाम जानकारी मैंने आपके साथ अपने अनुभव के आधार पर शेयर की है। अपने दोस्तों के साथ इस लेख को शेयर करे तथा कोई भी सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है धन्यवाद।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow Us

Follow us on Facebook
error: Content is protected !!