Mind Mapping kya hai – फोटो सहित उदाहरण

Mind Mapping kya hai : आज मैं आपको बताऊंगा माइंड मैपिंग क्या है, माइंड मैपिंग कैसे काम करती है, माइंड मैपिंग कैसे करते है, Mind mapping in hindi, माइंड मैपिंग के फायदे है।

प्रत्येक स्टूडेंट के लिए एग्जाम में अच्छे मार्क्स लाने के लिए सब्जेक्ट को याद करना बहुत जरूरी है।

अगर स्टूडेंट किसी सब्जेक्ट को याद करते है तो थोड़े समय में ही उसे भूल जाते हैं।

माइंड मैपिंग एक ऐसी तकनीक है जिसमे आप रंगो, डायग्राम तथा चार्ट की मदद से किसी भी सब्जेक्ट को लंबे समय तक याद रख सकते हैं। माइंड मैपिंग किसी भी सब्जेक्ट का रिवीज़न करने का सबसे बेस्ट तरीका है।

किसी भी चैप्टर की माइंड मैपिंग करने के लिए आपको चैप्टर को पढ़ना पड़ेगा।

प्रत्येक स्टूडेंट का रिवीजन करने का तरीका अलग अलग होता है जैसे बोलकर रिवीज़न करना, पढ़कर रिवीज़न करना, लिखकर तथा Visualization (विजुलाइजेशन) के द्वारा या अपने दोस्त को पढ़ाकर रिवीज़न करना आदि।

वैज्ञानिकों ने पाया है कि विजुलाइजेशन के द्वारा किया गया रिवीज़न सबसे प्रभावी तरीका है।

माइंड मैपिंग कैसे करते हैं मैं आपको उदाहरण देकर समझाऊंगा लेकिन उसे पहले जान लेते हैं कि माइंड मैपिंग क्या है।

पढ़े : अंग्रेजी बोलना सीखने के 6 रामबाण सूत्र

Mind Mapping kya hai What is mind mapping in hindi

आप फोटो में देख सकते हैं कि यह माइंड मैपिंग का ही डायग्राम है।

जैसा कि अब आप जान चुके हैं माइंड मैपिंग  में रंगों, अलग-अलग प्रकार के बॉक्सेस, लाइन, अलग-अलग प्रकार के चिन्ह, फोटो, टेक्स्ट आदि का इस्तेमाल किया जाता है।

माइंड मैपिंग किसी भी टॉपिक को जल्दी याद करने तथा लंबे समय तक याद रखने का सबसे बेहतरीन तरीका है।

लेकिन माइंड मैपिंग या brain मैपिंग काम कैसे करती है।

माइंड मैपिंग की खोज किसने की

माइंड मैपिंग concept के जन्मदाता “Tony Buzan” को माना जाता है।

Tony Buzan एक ब्रिटिश लेखक हैं उन्होंने माइंड मैपिंग पर बहुत सारी पुस्तकें लिखी है।

Brain मैपिंग कैसे काम करती है

आप सभी जानते हैं कि हमारे दिमाग के 2 हिस्से होते हैं।

  • Left brain
  • Right brain

दोनों ब्रेन अलग-अलग तरह के कार्य करते हैं तथा अलग-अलग तरह की चीजों को याद करने का कार्य करते हैं।

1. Left Brain

हमारा बाया दिमाग लॉजिक, शब्दों को याद रखने, फैक्ट को याद रखने, मैथ्स की कैलकुलेशन करने, रेखिक सोच आदि कार्य करता है।

2. Right Brain

दायां दिमाग किसी भी चीज की कल्पना करना, आर्ट सीखना, रंगों को याद रखना, भावनाओं को समझना, संगीत सुनना, दिन में सपने देखना आदि कार्य करता है।

प्रत्येक व्यक्ति दैनिक जीवन में लेफ्ट ब्रेन का ज्यादा इस्तेमाल करता है इस कारण सबके right ब्रेन की मेमोरी खाली रहती है।

इस कारण माइंड मैपिंग के द्वारा हम चीजों को याद करने के लिए राइट ब्रेन का इस्तेमाल करते हैं।

माइंड मैपिंग कैसे करते हैं

Mind Mapping kya hai यह जानने के बाद अब मैं आपको बताता हूँ कि माइंड मैपिंग करने के कौन कौन से स्टेप्स होते है।

माइंड मैपिंग तभी सही तरीके से काम करती है जब आपको रिवीजन करने का तरीका पता हो।

पढ़े : रिवीज़न कैसे करें और रिसर्च द्वारा खोजा गया तरीका

जैसा कि मैं आपको बता चुका हूं माइंड मैपिंग प्रत्येक सब्जेक्ट तथा प्रत्येक टॉपिक के लिए की जा सकती है।

लेकिन माइंड मैपिंग करने के लिए आपको नीचे दिए गए स्टेप्स फॉलो करने होंगे इसके बाद मैं आपको माइंड मैपिंग के कुछ उदाहरण देकर भी समझाऊंगा।

  • सबसे पहले आपको एक बड़ा पेपर लेना है अगर आप का टॉपिक बड़ा है तो आपको बड़ा पेपर लेना है।
  • पेपर के बीच में आपको मुख्य टॉपिक का नाम लिखना है।
  • मुख्य टॉपिक के जितने भी sub टॉपिक है उनका नाम आपको मुख्य टॉपिक के दाएं, बाएं, ऊपर तथा नीचे बॉक्स बनाकर लिखना है।
  • आपको अलग-अलग रंगों का इस्तेमाल करना है।
  • अगर Sub टॉपिक के आगे भी कोई sub टॉपिक हो तो उन्हें भी लिखना है।
  • रंग, चिन्न, आकृति का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें।
  • शीर्षक छोटे होने चाहिए तथा उनके प्वाइंट्स भी छोटे होने चाहिए।

पढ़े : बुक के लम्बे आंसर को चुटकी में कैसे याद करें

माइंड मैपिंग के फायदे

  • माइंड मैपिंग में फोटो या flow चार्ट बनाते हैं हमारा दिमाग फोटो को लम्बे समय तक याद रख सकता है।
  • माइंड मैपिंग रंगों तथा अलग-अलग प्रकार की आकृति का इस्तेमाल करते है। ऐसी चीजों को हमारा दिमाग जल्दी कैच करता है।
  • माइंड मैपिंग करने से पढाई करते समय बोरियत महसूस नहीं होती है।
  • माइंड मैपिंग से रिवीजन करने में आसानी होती है।
  • माइंड मैपिंग से हमारे दोनों दिमाग की कनेक्टिविटी बढ़ती है।
  • हम चीजों का आपस में कनेक्ट करना सीख जाते हैं।
  • माइंड मैपिंग में मनोरंजन के साथ-साथ पढ़ाई कर सकते हैं।
  • माइंड मैपिंग प्रत्येक सब्जेक्ट के लिए की जा सकती है जैसे History, इंग्लिश, साइंस, ज्योग्राफी पॉलिटिक्स, Maths, Hindi आदि।
  • सभी प्रकार की एग्जाम के लिए माइंड मैपिंग की जाती जा सकती है जैसे UPSC, BANK, SSC

पढ़े : पढाई करने का SQ3R फार्मूला क्या है

माइंड मैपिंग के उदाहरण

अब मैं आपको माइंड मैपिंग कुछ उदाहरण देकर समझाता हूँ माइंड मैपिंग हर टॉपिक पर अप्लाई कि जा सकती है

1. हिंदी निबंध

बचपन में आपने गाय पर निबंध जरुर लिखा होगा गाय के निबंध का माइंड मैपिंग कैसे करते है देखिए

सबसे बीच में मुख्य टॉपिक का नाम लिखते है साइड में उसकी केटेगरी तथा उसके बाद सब केटेगरी कि डिटेल लिखते है

mind mapping kya hai
गाय पर निबंध की माइंड मैपिंग

2. इंग्लिश सब्जेक्ट के टॉपिक की माइंड मैपिंग  

इंग्लिश में आपने Noun टॉपिक जरुर पढ़ा होगा देखिए Noun टॉपिक की माइंड मैपिंग

English subject mind mapping
Noun टॉपिक की माइंड मैपिंग

3. इतिहास की माइंड मैपिंग

इतिहास में दिल्ली सल्तनत के वर्ष 1206 से 1526 तक जीतने भी वंश के राजाओं ने शासन किया उनका नाम याद करने के लिए माइंड मैपिंग किस प्रकार करते है देखें

history subject mind mapping
इतिहास की माइंड मैपिंग

4. कंप्यूटर के पार्ट्स की माइंड मैपिंग

कंप्यूटर के दो मुख्य पार्ट्स होते है तथा उनके भी sub पार्ट्स होते है देखें कंप्यूटर के पार्ट्स की माइंड मैपिंग कैसे करते है

Parts of computer mind mapping
कंप्यूटर के पार्ट्स की माइंड मैपिंग

निष्कर्ष

अब आप जान गए होंगे कि Mind Mapping kya hai, माइंड मैपिंग कैसे काम करती है, माइंड मैपिंग कैसे करते है, Mind mapping in hindi, माइंड मैपिंग के फायदे है।

नोट्स बनाने का सबसे बेहतरीन तरीका

पढाई करने का SQ3R फार्मूला क्या है

Revision कैसे करे Revision करने का वैज्ञानिक तरीका

स्टूडेंट को कितने घंटे सोना चाहिए?

बुक के लम्बे आंसर को चुटकी में कैसे याद करें

पढाई करने का सही समय क्या है सुबह, दिन या रात

स्टडी टेबल को कैसे सजाये ताकि आपका पढाई में मन लगे

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow Us

Follow us on Facebook